लॉकडाउन हास्य कविता । Lockdown funny poem

लॉकडाउन हास्य कविता । Lockdown funny poem

लॉकडाउन हास्य कविता । Lockdown funny poem

सभी शादी शुदा पुरुषों को समर्पित 

उठो लाल अब आंखे खोलो
बर्तन मांजो कपड़े धो लो
झाड़ू लेकर फर्श बुहारो
और किचेन में पोछा मारो 

अलसाओ न, आंखें मूंदो
सब्ज़ी काटो, आटा गू थो
तनिक काम से तुम न हारो
घी डालकर दाल बघारो

गमलों में तुम पानी डालो
छत टंकी से गाद निकालो
देखो हमसे खेल न खेलो
छोड़ मोबाइल रोटी बेलो

बिस्तर सारे , धूप में डालो
ख़ाली हो अब काम संभालो
नहीं चलेगी अब मनमानी 
याद दिला दूंगी अब नानी

ये, आईं है, अजब बीमारी
सब पतियों पे विपदा भारी
नाथ अब शरणागत ले लो
कुछ भी हो ये आफत ले लो।