sabse Dard Bhari Shayari

भूले नहीं हैं तुमको, ना ही कभी भूल पाएंगे, कुछ इस तरह धोखा दिया तूने कि अब ना किसी से दिल लगा पाएंगे।


बेवफाई उसका हक थी,और ये हक उसने इस्तेमाल कर लिया। शायद हम ही नादान थे ,जो झूठे प्यार में उसके खुद को बर्बाद कर लिया।

सबसे दर्द भरी शायरी


ये वहम था मेरा कि वो मेरे बगैर एक पल जी नहीं सकती, जी लिया..... तभी तो यूं मुझे तन्हां छोड़ दिया..। 💔 💔


सच बताऊं तुम बहुत याद आती थी और अब भी बहुत याद आती हो.... और उस वक्त तो बहुत बहुत ज्यादा याद आती हो जब कोई किसी से प्यार में कभी साथ ना छोड़ने की कसमें खाने और वादे करने की बातें करता है।

sabse Dard Bhari Shayari


एक वादा किया था हमने कि चाहे सब कुछ भूल जाएं पर हम एक-दूसरे से किए हुए वादे कभी ना भूलेंगे। और पता है वो वादा क्या था कि चाहे कुछ भी हो जाए, पर हम एक दूसरे का साथ कभी ना छोड़ेंगे।


बिना गलती के मिली हुई सजा मौत से भी बदत्तर लगती है... ।

सबसे दर्द भरी शायरी हिंदी में


अब किसी गैर का कब्जा है उनके दिल पर, यानी बेघर हो गए हैं हम अपना मकान होते हुए ।


किसी को किसी की कदर नहीं पड़ी सब अपनी-अपनी जिंदगी में मस्त हैं, वो जब तुझे अपना वक्त नहीं देती तो तू क्यों उसके लिए अपना वक्त बर्बाद करने में व्यस्त है।

दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी


जो कहते थे कि हम तुम्हारे बिना एक पल जी ना पाएंगे, ना ही किसी से दोबारा दिल लगा पाएंगे, पर किसको क्या पता था कि एक दिन वो ही हमें छोड़ कर दूसरे के साथ खुशी से जिंदगी जी रहे होंगे, जो कहते थे जिस दिन हमने तुम्हें छोड़ा उस दिन हम इस दुनिया को ही छोड़ जायेंगे।


तुम्हारे पास बहाने तो बहुत से थे मुझसे बात ना करने के, पर क्या कभी एक भी बहाना किया था तुमने मुझसे बात करने का।


हाथों की लकीरें पढ़ते वक्त रो देता हूं मैं, कि इनमें सब कुछ तो है तेरा नाम ही आखिर क्यों नहीं है।


आखिर क्या थी मजबूरी तेरी जो तूने रास्ता मोड़ लिया, बरसों पुराना बनाया हुआ रिश्ता एक पल में तोड़ लिया।

सबसे दर्द भरी शायरी 2022


हम तो उनके दिल से अपना दिल जोड़ने चले थे, पर...उन्होंने तो दिल ही किसी और को दे दिया।


उसके एक कदम ने हमारे बीच इतने फासले ला दिए, कि अब हम अगर ज़िन्दगी भर भी चलते रहें न..। तब भी हमारे कदम एक साथ न मिलेंगे। 💔💔


कभी कभी हम वो करना छोड़ देते है, जो सामने वाले को पसंद नहीं होता, और आखिर में वही लोग कहते है कि, हम पहले जैसे नहीं रहे अब।


दिल की खामोशी से सांसो के ठहर जाने तक, मुझे याद रहेगा वो अजनबी मेरे मर जाने तक।


अब किसी गैर का कब्जा है उनके दिल पर, यानी बेघर हो गए हैं हम अपना मकान होते हुए ।


फिर यूं हुआ के कट गयी तेरे बगैर भी, उजड़ी हुई, लूटी हुई, वीरान ज़िंदगी...!!


सितम पे सितम कर रही है वो मुझ पर, मुझे शायद अपना समझने लगी है अब।


हूं अगर खामोश तो ये न समझ कि मुझे बोलना नहीं आता....😐 रुला तो मैं भी सकता था पर मुझे किसी का दिल तोड़ना नहीं आता। 💔💔


जज़्बात लिखे तो मालूम हुआ, पढ़े लिखे लोग भी,पढ़ना नहीं जानते.!!


फरमान अपनी हदों में रहने का आ गया है, वक्त अलविदा कहने का आ गया हैं.!!

सबसे दर्द भरी शायरी डाउनलोड


हमने इबादत रखा है हमारे रिश्ते का नाम., मोहब्बत को तो लोगों ने बदनाम कर दिया..!!


वो मुझसे बिछड़ना चाहती थी मैंने कहा दुआ कर मेरी मौत की।


मेरे अल्फाजो को समझने वाले, लगता है तेरे ज़ख्म भी गहरे है !!

Post a Comment