नफरत शायरी | shayari on nafrat

तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो, मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूंगा।…

ज़्यादा पोस्ट लोड करें कोई परिणाम नहीं मिला